कब थमेगा ये दुष्टचक्र ? नासिक में हुई दिल दहला देने वाली घटना, २२ लोगों का निधन

    22-Apr-2021
|

कोरोना की मार से भारत फिर एक बार जूझ रहा है | पिछले साल से ज्यादा भयानक रूप धारण कर चुकी इस बीमारी ने अब तक भारत में पिछले एक साल में १ लाख ८३ हजार से भी अधिक लोगों की मृत्यु हो चुकी है | स्वास्थ्य व्यवस्था चरमरा चुकी है, और ऐसे में ऑक्सिजन लीक होने से यदि २२ लोगों की मृत्यु हो जाए, तो इससे अधिक भयंकर और क्या हो सकता है ? महाराष्ट्र के नासिक में ऐसी ही एक घटना के कारण २२ लोगों ने दम तोड दिया, और वे जिंदगी की जंग हार गए |


Nashik_1  H x W


नासिक के जहांगीर अस्पताल में अचानक ऑक्सिजन लीक होने के कारण हडबड मच गई | लोग अपने अपने परिजनों की जान बचाने के लिये कहीं उनकी छाती पंप कर रहे थे, तो कहीं मदत की गुहार लगा रहे थे | लगभग ३० मिनिट तक ये खेल चलता रहा, और आखिरकार २२ लोगों ने ऑक्सिजन ना मिलने से दम तोड दिया | किसी ने अपनी माँ को खो दिया तो किसी ने अपने भाई या पिता को | हर तरफ बस हाहाकार | जो लोग कोरोना से ठीक होने की कगार पर थे, जिनके परिजनों को उम्मीद थी, कि उनके घरवाले कुछ ही दिन में ठीक होकर वापस घर आ जाएँगे, एक हादसे ने सब खत्म कर दिया, हर उम्मीद तोड दी | 


टीव्ही ९ और न्यूजभारती द्वारा दी गई रिपोर्ट में एक लडकी रोती बिलखती नजर आ रही है, जिसने इस हादसे में अपनी माँ को खो दिया | वो चिल्ला चिल्ला कर पूछ रही है, “क्या ये हॉटेल है? जो यहाँ वेटिंग की लाईन लगा रखी है ? मेरी माँ को ऑक्सिजन तब मिला जब उसे २ दिन पहले उसके जरूरत थी, फिर भी ऑक्सिजन मिलने के बाद मेरी माँ ठीक हो रही थीं, उन्होंने खाना भी खाया, और फिर ये हो गया, मेरी माँ किसी तडफडाती मुर्गी की तरह घुट घुट कर मरीं हैं…! मर गई मेरी माँ..” उसके ये शब्द सुनकर किसी का भी मन सुन्न हो जाएगा | 


कब थमेगा ये दुष्टचक्र ? कोरोन की मार से जवान लोगों के निधन की खबरें, ऑक्सिजन के अभाव में मरने वाले मरीजों की संख्या, बेड ना मिलने से अस्पताल के बाहर दम तोडने वाले मरीज, ऑक्सिजन सिलेंडर हाथ में लेकर नाक पर ऑक्सिजन मास्क लगाई हुई महिला का अस्पताल के सामने बैठकर एडमिट होने के लिये अपनी बारी का इंतेजार करना, सब कुछ मन को सुन्न कर देने वाला है | 

यह दुष्ट चक्र जल्दी थमे, किसी और को अब इलाज के अभाव में, हादसे में, ऑक्सिजन की कमी से, कोरोना की मार से या किसी भी कारण से अपनी जिंदगी ना गँवानी पडे, अब बस यही प्रार्थना है | सभी सुरक्षित रहें, घर पर रहें, हाथ धोते रहें, मास्क अवश्य पहनें और अपना खयाल रखें |